ज्यादा ईमानदारी सफलता के लिए ठीक नहीं होती: चाणक्य नीति

राजा-रजवाड़ों के सियासत में खंडित भारत को एक सूत्र में बंधने का सपना देखने वाले आचार्य चाणक्य का जन्म करीब 300 ईसा पूर्व हुआ था. आचार्य चाणक्य का संबंध पाटलिपुत्र से था, जिसे उन्होंने अपनी कर्मभूमि बनाया. आचार्य चाणक्य को नीतिशास्त्र और अर्थशास्त्र का जनक भी कहा जाता है. आमतौर पर लोग आचार्य चाणक्य को कूटनीति और राजनीति के ज्ञाता मनाते हैं पर आचार्य चाणक्य ने इंसानों को जीवन में सफलता के कई उपाए बताए…

"ज्यादा ईमानदारी सफलता के लिए ठीक नहीं होती: चाणक्य नीति"

चाणक्य नीति : जीवन की इन 6 परिस्थितियों में साथ देने वाला मनुष्य है सच्चा मित्र

चाणक्य नीति : हम ऐसे आधुनिक युग में जी रहे हैं जहां किसी बात को बनते और बिगड़ते समय नहीं लगता. कई बार ऐसा भी हो जाता है कि हमारे किसी प्रियजन से ऐसे मतभेद हो जाते हैं जिससे उम्र भर हमारी उनसे बात नहीं हो पाती लेकिन आचार्य चाणक्य जीवन की ऐसी परिस्थियों के बारे में बताते हैं जिसमें अगर कोई व्यक्ति या आपका दुश्मन भी साथ दे, तो वो व्यक्ति आपका सबसे बड़ा…

"चाणक्य नीति : जीवन की इन 6 परिस्थितियों में साथ देने वाला मनुष्य है सच्चा मित्र"

चाणक्य नीति की ऎसी बातें जो जीवन की राह को अनुभव का प्रकाश दिखाती हैं

चाणक्य नीति की ऎसी बातें जो जीवन की राह को अनुभव का प्रकाश दिखाती हैं- – जो समय बीत गया, उसे याद कर पछताना व्यर्थ है। अगर आपसे कोई त्रुटि हो गई तो उससे शिक्षा लेकर वर्तमान को श्रेष्ठ बनाने का प्रयास करना चाहिए, ताकि भविष्य को संवारा जा सके। – जो धन बहुत ज्यादा कष्टों के बाद मिले, जिसके लिए अपने धर्म का त्याग करना पड़े, जिसके लिए शत्रुओं की खुशामद करनी पड़े या…

"चाणक्य नीति की ऎसी बातें जो जीवन की राह को अनुभव का प्रकाश दिखाती हैं"

चाणक्य नीति – इन तीन प्रकार के लोगों से व्यवहार करने पर हमेशा दुःख ही प्राप्त होता है

आचार्य चाणक्य ने तीन प्रकार के ऐसे लोग बताए हैं जिनसे किसी भी प्रकार का व्यवहार करने पर दुख ही प्राप्त है। अत: इन लोगों से हमेशा दूर रहना ही बुद्धिमानी है। चाणक्य कहते हैं- मूर्खाशिष्योपदेशेन दुष्टास्त्रीभरणेन च। दु:खिते सम्प्रयोगेण पंडितोऽप्यवसीदति।। इस श्लोक का अर्थ है कि मूर्ख शिष्य को उपदेश देने पर, किसी व्यभिचारिणी स्त्री का भरण-पोषण करने पर और दुखी व्यक्तियों के साथ किसी भी प्रकार का व्यवहार करने पर दुख ही प्राप्त…

"चाणक्य नीति – इन तीन प्रकार के लोगों से व्यवहार करने पर हमेशा दुःख ही प्राप्त होता है"

चाणक्य नीति- किसी को नींद से जगाते समय ध्यान रखें ये बातें

चाणक्य नीति- आचार्य चाणक्य ने हर परिस्थिति के लिए अलग-अलग नीतियां बताई हैं। यदि हमारे आसपास कोई व्यक्ति सो रहा है तो उसे जगाने से पहले चाणक्य की इस नीति का ध्यान एक बार कर लेंगे तो आप कई समस्याओं से बच सकते हैं। आचार्य ने 7 प्राणी ऐसे बताए हैं, जिन्हें नींद से जगाना नहीं चाहिए… 1. मूर्ख व्यक्ति यदि कोई मूर्ख व्यक्ति सो रहा है तो उसे सोने देना चाहिए। जगाने का प्रयास…

"चाणक्य नीति- किसी को नींद से जगाते समय ध्यान रखें ये बातें"

चाणक्य नीति: सफल होने के लिए मालूम होने चाहिए इन 6 प्रश्नों के उत्तर

चाणक्य नीति: आज के समय में अधिकांश लोगों को धन संबंधी सुख पाने के लिए अतिरिक्त श्रम करना पड़ता है। फिर भी बहुत ही कम लोग अधिक श्रम के बाद भी पर्याप्त प्रतिफल प्राप्त कर पाते हैं। व्यक्ति को कुछ कामों में तो सफलता मिल जाती है, लेकिन कुछ कामों में असफलता का मुंह भी देखना पड़ता है। यदि आप सफलता का प्रतिशत बढ़ाना चाहते हैं तो यहां एक चाणक्य नीति बताई जा रही है।…

"चाणक्य नीति: सफल होने के लिए मालूम होने चाहिए इन 6 प्रश्नों के उत्तर"

चाणक्य नीति: पुरुषों को ये 4 बातें कभी भी किसी को बतानी नहीं चाहिए

चाणक्य नीति: आचार्य चाणक्य द्वारा बताई गई नीतियों में सफल और सुखी जीवन के कई सूत्र बताए गए हैं। यदि कोई व्यक्ति चाणक्य की नीतियों का पालन करता है तो निश्चित ही वह कई प्रकार की परेशानियों से बच सकता है। अक्सर जाने-अनजाने कुछ लोग ऐसी बातें दूसरों को बता देते हैं, जो भविष्य में किसी बड़े संकट का कारण बन जाती हैं। चाणक्य ने मुख्य रूप से चार ऐसी बातें बताई हैं, जिन्हें हमेशा…

"चाणक्य नीति: पुरुषों को ये 4 बातें कभी भी किसी को बतानी नहीं चाहिए"

चाणक्य नीति: जब हो जाए ऐसी 4 बातें तो तुरंत उस जगह से हट जाना चाहिए

चाणक्य नीति: जीवन में कभी-कभी ऐसे हालात निर्मित हो जाते हैं, जब यदि हम त्वरित निर्णय न लें तो किसी भयंकर परेशानी में फंस सकते हैं। आचार्य चाणक्य ने चार ऐसे हालात बताए हैं, जब व्यक्ति को तुरंत भाग निकलना चाहिए। यहां जानिए ऐसे चार हालात कौन-कौन से हैं और वहां से भागना क्यों चाहिए… आचार्य चाणक्य कहते हैं- उपसर्गेऽन्यचक्रे च दुर्भिक्षे च भयावहे। असाधुजनसंपर्के य: पलायति स जीवति।। हालात- 1 इस श्लोक में आचार्य…

"चाणक्य नीति: जब हो जाए ऐसी 4 बातें तो तुरंत उस जगह से हट जाना चाहिए"

चाणक्य के ये विचार आपकी ज़िन्दगी बदल सकते हैं.

 चाणक्य नीति   1. कोई काम शुरू करने से पहले, स्वयम से तीन प्रश्न कीजिये – मैं ये क्यों कर रहा हूँ,इसके परिणाम क्या हो सकते हैं और क्या मैं सफल होऊंगा. और जब गहरई से सोचने पर इन प्रश्नों के संतोषजनक उत्तर मिल जायें,तभी आगे बढें 2. व्यक्ति अकेले पैदा होता है और अकेले मर जाता है;और वो अपने अच्छे और बुरे कर्मों का फल खुद ही भुगतता है; और वह अकेले ही नर्क या स्वर्ग…

"चाणक्य के ये विचार आपकी ज़िन्दगी बदल सकते हैं."