मूढ़ भी ज्ञानी हो जाता है स्कंदमाता की कृपा से...  सिंहसनगता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया।  शुभदास्तु सदा देवी स्कंदमाता यशस्विनी॥ पहाड़ों पर रहकर सांसारिक जीवों में नवचेतना का निर्माण...

ब्रह्मांड को उत्पन्न करनेवाली मां कुष्मांडा  सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च।  दधाना हस्तपद्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु मे।  नवरात्रि में चौथे दिन देवी को कुष्मांडा के रूप में पूजा जाता है।...

अलौकिक वस्तुओं के दर्शन कराती हैं मां चंद्रघंटा  पिण्डजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकेर्युता।  प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता॥ मां दुर्गा की तीसरी शक्ति हैं चंद्रघंटा। नवरात्रि में तीसरे दिन इसी...
Bhramhcharini Maa Durgas Second Power

जीवन के कठिन क्षणों में संबल देती हैं मां ब्रह्मचारिणी  दधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलू।  देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा॥  मां दुर्गा की नवशक्ति का दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी का है। यहां...

अनंत शक्तियों से संपन्न हैं देवी का पहला स्वरूप  वन्दे वांच्छितलाभाय चंद्रार्धकृतशेखराम्‌ ।  वृषारूढ़ां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्‌ ॥ नवरात्रि में दुर्गा पूजा के अवसर पर दुर्गा देवी...
Navdurga Existance in These 9 Herbs

इन 9 औषधियों में विराजती है नवदुर्गा मां दुर्गा नौ रूपों में अपने भक्तों का कल्याण कर उनके सारे संकट हर लेती हैं। इस बात...

शैलपुत्री – पहले दिन माँ दुर्गा के पहले स्वरूप शैलपुत्री की पूजा होती है। पर्वतराजहिमालय के यहाँ पुत्री रूप में उत्पन्न होने के कारण इनका नाम...